Posts

“Main Munna Hu” is an elixir of hope.... Book Review by Shikha Sharma

Image
“Main Munna Hu” is an elixir of hope and an incitement to the shriveled and muted voices; an intense message to the survivors that the shame is on the aggressor and not on them. The desire to molest a child is already ‘there’ even before the child appears! The depiction of the trauma that a child has to go through seemed real but the spirit to survive and the denial will to surrender against the vandalized and assaulted dignity is the epitome of the novel. The mood and the tone of the novel is empathetic and optimistic respectively. Narrative of the “Mystical Vrindavan” and the “bucolic landscape of Nepal and Jharkhand” adds to a galore of sanguinity in the novel. Character coercion is avoided and the characters are built in the realm of necessity and avoiding the unnecessary nuances of character multitudes. Every c…

यह पुस्तक, आपको कभी उदास कर देगी, आपको नटखट किशोर घटनाओं से गुदगुदाएगी, आपको भावुक कर देगी

Image
मैं मुन्ना हूं, एक क्यूट से लड़के के परेशान बचपन के बारे में एक दिल को छू लेने वाली कहानी जो रिश्तेदारों, पड़ोसियों और अज्ञात लोगों द्वारा उनकी हवस का शिकार बनाया गया था। लड़का आखिरकार एक दिन अपने यौन उत्पीड़न को ना कहने का साहस जुटाता है। हालांकि वह ना कह देता हैं और बचकर भाग जाता हैं, फिर भी वह अब भी परेशान है और भयावह यादों से ग्रसित है।
शारीरिक और मानसिक रूप से अकेला वह भटक रहा होता है और दिव्य समर्थन पाता है और फिर से थोड़ा सामान्य महसूस करने लगता है। कहानी बचपन की शरारतों और मुन्ना के अनगिनत किस्सों के साथ आगे बढ़ती है। किशोरावस्था अपनी कई कहानियां और प्यारी परेशानियों को लाता है, जो मुन्ना कुशलता से निपटता है। एक युवा मुन्ना अपने बचपन के क्रश से मिलता है और अन्तः उससे शादी करता है। कहानी यहाँ से एक नया मोड़ लेती है ... उसकी शादीशुदा ज़िन्दगी कैसी होती है, यह जानने के लिए किताब पढ़ें कि कैसे एक व्यक्ति जिसने बचपन के यौन शोषण का सामना किया है, वो जीवन में कैसे आगे बढ़ता है। यह कहानी हमें अपने बच्चों से यौन शोषण के बारे में क्यों बात करनी चाहिए यह भी बताती हैं।यह पुस्तक, आपको कभी …

किन्नू और मुन्ना की अलौकिक मैत्री अचंभित कर देने वाली है - तूलिका

Image
मनीष श्रीवास्तव लिखित उपन्यास "मैं मुन्ना हूँ" का आरंभ ही कुछ विचलित कर देने वाले प्रसंगों से होता है जो हमें न केवल सत्य से अवगत होने को सचेत करते हैं बल्कि हमें आने वाले भावनात्मक आघातों को सहने को तैयार भी करते हैं। मुन्ना की यात्रा के आरंभ से ही उसके प्रिय मित्र किन्नू की उपस्थिति उत्सुक करती है। आगे बढ़कर यह स्पष्ट होता है कि किन्नू एक काल्पनिक चरित्र है जो मुन्ना को उसके जीवन की विचलित करने वाली यात्रा से अवगत कराने वाला सूत्रधार भी है और उसके जीवन में जिस संबल और स्नेह  कमी रही है उसका प्रतिरूप भी। किन्नू मुन्ना का हाथ थामता भी है और छोड़ता भी है। उसका सहारा भी बनता है और उसे सहारा न लेना पड़े इस काबिल भी बनाता है। किन्नू और मुन्ना की अलौकिक मैत्री मुन्ना के साथ साथ पाठकों को भी दैविय शक्तियों में विश्वास ढूंढने का साहस देते हैं। 
पूरे उपन्यास में मुन्ना केवल एक चरित्र नहीं रहता वह एक भोगे हुए यथार्थ का छुपाया हुआ प्रतिरूप हमारे समक्ष उजागर कर रहा है जिसे जीवन के अलग पड़ावों में हम सब ने जिया है, भोगा है और छुपाया है। 
मुन्ना अपनी पूरी यात्रा में केवल अपनी एक व्यथा लेकर…

पुस्तक नदी के प्रवाह की तरह है - मैं मुन्ना हूँ ( एक समीक्षा)

Image
मैं मुन्ना हूँ किताब एक साहसिक प्रयास है ऐसे विषय को उठाने का जिसका ख्याल भी मन में वितृष्णा उत्पन्न करता है। बाल यौन शोषण को केन्द्र में रखते हुए व्यक्क्तिव पर उसके असर को मुन्ना की कहानी के जरिए बखूबी उधेड़ा है लेखक मनीष श्रीवास्तव ने। विषय ऐसा है कि कहानी की नींव तैयार करते समय किताब शुरुआत में पाठक को तकलीफ देती है। ऐसी तकलीफ जिससे वो किताब बंद करते ही छुटकारा पा सकता है पर वो ऐसा कर नहीं पाता। वो मुन्ना के सफर में उसके साथ बढ़ चलता है।मुन्ना के स्कूल और कॉलेज की जिंदगी में नब्बे के दशक के छोटे शहरों के मध्यमवर्गीय परिवार का जीवन दिखता है। लेखक की पकड़ जमीनी है जो उसके किरदारों व उनकी बातों से उभर कर कर सामने आती है। इस पुस्तक के पात्र देखे हुए से लगते हैं क्योंकि वो पाठक के आसपास के लोग हैं जिन्हें लेखक ने पात्र के रूप में गढ़ दिया है। किस्सागोई बहुत रोचक ढंग से की गई है और एक बार किताब में घुस जाने के बाद किताब एक तरह से सिर पर सवार हो जाती है और पाठक उसे खत्म करके ही चैन पाता है।किताब में कुछ ऐसी चीजें भी हैं जिन पर सवाल उठाए जा सकते हैं। इतने संवेदनशील और दर्दनाक विषय पर लिखी …

इस कहानी में बचपन के किस्से है, प्रेम है, गिरना है, उठना है और फिर गिर कर, उठकर संभलकर, खड़े होने की कहानी है। - सरोज सिंह ( एक समीक्षा)

Image
"मैंमुन्नाहूँ" -नायककेमानसिकविदलनऔरसृजनात्मकविकासवउपलब्धियोंकीकथाहै।समकालीनसनसनियोंमेंसेएकसेशुरूहुईयहकथाआपकोएकबालक, एककिशोर, एकयुवककेउसआदिम